9 क्लास में कौन सा सब्जेक्ट चुने?Which subject to choose in 9 class

आपने देखा होगा कि पहली क्लास से आठवीं क्लास तक एक जैसे सब्जेक्ट (Subjact) ही पढ़ा दिए जाते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं है बदलते दौर के साथ साथ हमारी कक्षा नीति भी बदल गई  परंतु आज भी विद्यार्थी पहली क्लास से आठवीं क्लास तक  एक जैसे सब्जेक्ट (Subjact) को पड़ता है 

9 क्लास में कौन सा सब्जेक्ट चुने?Which subject to choose in 9 class
9 क्लास में कौन सा सब्जेक्ट चुने?Which subject to choose in 9 class

क्योंकि पहले क्लास से आठवीं क्लास तक की पढ़ाई को इतना महत्वपूर्ण  नहीं दिया जाता क्योंकि विद्यार्थी को इतनी समझ नहीं होती की हमें कौन सा सब्जेक्ट (Subjct) में रुचि है और हमें कौन सा सब्जेक्ट (Subjactका चुनाव करना चाहिए विद्यार्थी नाइंथ क्लास (9th class) में पहुंचने के बाद अपने मनपसंद सब्जेक्ट (Subjact) का चुनाव कर सकता है

IT ( Information Technology ) मैं करियर बनाएं पूरी जानकारी, IT  करने के फायदे

विद्यार्थी विद्यार्थी नाइंथ क्लास (9th class) में पहुंचने के बाद उसके दोस्त या बहन भाई कहने  लगते है कि आप विद्यार्थी नाइंथ क्लास (9th class) मैं  computer science ले लो   फिर कोई और कहता है कि नहीं आप ड्राइंग ले लो आठवीं क्लास पास करने के बाद एक सही सब्जेक्ट (Subject) का चुनाव करना बहुत जरूरी है अगर आपने नाइंथ क्लास में सही सब्जेक्ट (Subject) नहीं चुना (If you did not choose the correct subject in the ninth class in hindi)

नेटवर्क क्या है और इसकी पूरी जानकारी 

यानी जिस सब्जेक्ट(Subject)  में आपकी रुचि है जिसका  स्कोप सबसे ज्यादा है उस सब्जेक्ट (Subject) को नहीं चुना तो आप  आगे जाकर पढ़ाई करना छोड़ सकते हैं इसीलिए कहते हैं सही सब्जेक्ट (Subject) का चुनाव करना बहुत ही जरूरी है (It is very important to choose the right subject in hindi )

 iPhone क्या है, iPhone  आईफोन की खूबी क्या है

 आपने देखा होगा कि आठवीं क्लास पास करने के बाद टीचर्स  या माता पिता या आपके फैमिली रिलेटिव में कोई बड़ा सदस्य आपसे कहने लगता है 9th 10th 11th 12th इन 4 सालों में मेहनत कर ले तो आपकी जिंदगी सक्सेसफुल और आसान हो जाएगी दोस्तों हां यह बात बिल्कुल सही है अगर आपने नाइंथ क्लास (9th class) में सही सब्जेक्ट (Subjectका चुनाव क्या है (If you have chosen the right subject in the ninth class in hindi)

CPU क्या हैं? CPU Cores क्या होते हैं

तो  आपके आने वाले 4 साल infect कॉलेज life तक आसान हो जाएगा अगर आपने शुरू में ही एक सही सब्जेक्ट का चुनाव क्या है  कि हां मुझे इस सब्जेक्ट (Subject) में रुचि है मुझे आगे जाकर इस सब्जेक्ट (Subjectसे रिलेटेड आगे जाकर कुछ करना है चाहे आप डॉक्टर बने या फिर इंजीनियर या सॉफ्टवेयर इंजीनियर आदि बनने के लिए आपको शुरुआत में ही एक सही सब्जेक्ट (Subjectका चुनाव करना है (Choosing the right subject in hindi)

अगर आप ऐसा करते हैं तो आपके लिए डॉक्टर इंजीनियर या फिर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना बहुत ही आसान होगा चलिए अब जानते हैं नाइंथ क्लास में कौन सा सब्जेक्ट (Subjectचुने (Which subject to choose in ninth class in hindi)

और कौन से सब्जेक्ट (Subjectमें हमारी रुचि है जानने के लिए इस लेख को लास्ट तक पढ़ते रहे क्योंकि आपको नाइंथ क्लास (9th class) में कौन से सब्जेक्ट (Subjectका चुनाव करना है आपके लिए कौन सा सब्जेक्ट सही है हमने इस लेख में विस्तार से बताया है

  हरियाणा  के मेवात जिले की पूरी जानकारी

9 क्लास में कौन सा सब्जेक्ट चुने?Which subject to choose in 9 class?

दोस्तों आठवीं क्लास पास करने के बाद आपको विस्तार से सोचना है कि मुझे नाइंथ क्लास (9th class) कौन सा सब्जेक्ट पसंद है मेरी कौन से सब्जेक्ट में रुचि है और मैं कौन से सब्जेक्ट  मैं नंबर 1 हूं आदि के बारे में आपको विस्तार से सोचना हैं पूरी तरह से सोचने के बाद  अब आपको नाइंथ क्लास (9th class) में निम्न सब्जेक्ट का चुनाव करने का ऑप्शन है

जैसे कंप्यूटर साइंस, ड्राइंग ,फिजिकल, या संस्कृत, आदि में से आपको वही सब्जेक्ट  का चुनाव करना है जिसमें आपकी सबसे ज्यादा रुचि हो  और हां आपको सब्जेक्ट (Subjectका चुनाव करने से पहले आपको तय करना है कि आप आगे जाकर क्या बनोगे 

जैसे अगर आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर वेब डेवलपमेंट बनना चाहते हैं या फिर कंप्यूटर फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आपको कंप्यूटर से रिलेटेड सब्जेक्ट (Subjectका चुनाव करना है जैसे कंप्यूटर साइंस, आईटी (IT,information) आदि सब्जेक्ट का चुनाव करना है 

अगर आप पहले से ही यानी नाइंथ क्लास (9th class) से ही आप जो कुछ भी बनना चाहते हैं  उस से रिलेटेड ही सब्जेक्ट का चुनाव करें क्योंकि अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको नाइंथ क्लास (9th class) में ही BASIC चीजें समझा दी जाएंगे जो  आगे जाकर बहुत ही ज्यादा काम आएंगे

 इसके बाद आता है ड्राइंग सब्जेक्ट जी हां दोस्तों ड्राइंग सब्जेक्ट आपकी जिंदगी में एक इंपॉर्टेंट रोल प्ले करेगा अगर आप ड्राइंग सीखते हैं तो आपको उसकी प्रैक्टिकल नॉलेज होनी बहुत ही जरूरी है अगर आप ड्राइंग सीखते हैं और उसकी प्रैक्टिकल नॉलेज लेते हैं

तो आप आगे जाकर एक ड्राइंग मास्टर सकते हैं अगर आपको ड्राइंग की प्रैक्टिकल नॉलेज है जैसे कोण कैसे बनते हैं कौन से कौन  मैं कौन से चाप लगेगी और चित्र वगैरह आप सही  तरह से  सीख गए तो आप ड्राइंग के बेस पर आप आगे जाकर अच्छी जॉब पा सकते हैं

पब्जी जैसा गेम टॉप 8 है

 इसके बाद आता है फिजिकल और संस्कृत अगर आपको संस्कृत में इंटरेस्ट है तो आप सरकारी टीचर लग सकते हैं और बात करें फिजिकल की तो फिजिकल भी एक अच्छा सब्जेक्ट हैलगभग दोनों ही सब्जेक्ट एकदम बेस्ट हैं

आपको यह दोनों सब्जेक्ट तभी सुनने हैं जब आपका इसमें सबसे ज्यादा  रुचि हो दोस्तों इन दोनों सब्जेक्ट की मार्केट में बहुत ही कम  फायदे है अगर आपको बड़े लेवल पर जाना है तो आप ड्राइंग ऑफ कंप्यूटर सब्जेक्ट में जाएं क्योंकि इन दोनों सब्जेक्ट (Subjectकी मार्केट में बहुत ही ज्यादा स्कोप है

बढ़ते दौर के साथ-साथ इन दोनों सब्जेक्ट का दौर भी बढ़ता जा रहा है और यह कभी खत्म नहीं होगा और कंप्यूटर सब्जेक्ट तो बिल्कुल भी नहीं और हां अगर आपको एक बड़े लेवल का इंजीनियर बनना है तो आपको मैं तो और साइंस पर सबसे ज्यादा फोकस करना है क्योंकि यह दोनों सब्जेक्ट मार्केट में बहुत ही ज्यादा पॉपुलर औरडिमांडिंग सब्जेक्ट हैं आप इन दोनों सब्जेक्ट (Subjectपर फोकस कर कर बड़े लेवल का इंजीनियर बन सकते हो

अब हमने आपको बता दिया है कि आपको नाइंथ क्लास में कौन सा सब्जेक्ट (Subject) का चुनाव करना है कौन से सब्जेक्ट कितना ज्यादा पॉपुलर है आपको कौन से सब्जेक्ट पर ज्यादा ध्यान देना है नवी 10वीं 11वीं और 12वीं यह 4 साल आपको पूरी मेहनत के साथ पढ़ाई करनी है अगर आप इन 4 सालों में  कड़ी मेहनत करते हैं  यकीनन आप एक सफल इंसान बन जाओगे

 कौन-कौन सी बातें हैं जो आपको नाइंथ क्लास में याद रखनी है?

अगर आप नाइंथ क्लास में हो गए हैं तो आपको यह पता होना चाहिए कि मुझे किस टॉपिक पर पढ़ाई करनी है और कैसे पढ़ाई करनी है सबसे पहली बात आपको अपने अंदर तय करना है कि मुझे एक साल बाद बोर्ड परीक्षा देनी है

इसीलिए मैं नाइंथ क्लास में उस टॉपिक पर ज्यादा ध्यान दूं जिसमें मैं कमजोर हूं कहने का मतलब यह है कि आपको उसी टॉपिक पर ज्यादा ध्यान देना है जिसमें आपको लगता है कि हां यार यह सब्जेक्ट (Subjectकठिन है आप को पहले से ही अपने उस टॉपिक का रिवीजन कर लेना है

जिस टॉपिक में आप सबसे ज्यादा कमजोर हो ट्यूशन या एक्स्ट्रा क्लासेस भाई-बहन की मदद लेकर भी उस टॉपिक काे रिविजन करना है क्योंकि नाइंथ क्लास में मैं आपको प्रैक्टिकल नॉलेज लेनी है

जिस सब्जेक्ट में आप कमजोर हो नाइंथ क्लास मैं आपको ज्यादा सोचने का समय भी रहेगा तो आप अपने समझने की क्षमता को बढ़ाइए क्योंकि दसवीं में होने के बाद आप इतने ज्यादा बिजी हो जाओगे की आप ज्यादा पढ़ाई नहीं कर पाओगे क्योंकि दसवीं के मुकाबले नाइंथ क्लास में बहुत ही कम पढ़ाई होती है इसीलिए आप पहले से ही तय कर ले कि आपको क्या बनना है

क्योंकि नाइंथ क्लास से आप सफलता की सीढ़ी चढ़ सकते हो अगर आपने पहले से ही अपने उस विषय का चुनाव किया है जिसमें आपको सबसे ज्यादा रुचि है और हां नाइंथ क्लास और ग्यारहवीं क्लास इसीलिए बोर्ड की नहीं होती क्योंकि स्टूडेंट नाइंथ में दसवीं बोर्ड  की तैयारी कर सके और 11वीं में 12वीं बोर्ड की तैयारी कर सकें और आपको नाइंथ क्लास में ही टाइम टेबल बनाना है

अगर आप टाइमटेबल बनाते हैं तो आपको हर सब्जेक्ट के लिए वक्त अच्छे से निकाल पाएंगे अगर आप वाकई में नाइंथ क्लास से अपनी सफलता की रहा पकड़ना चाहते हैं तो आपको इस पोस्ट में बताई गई सभी बातों का पूर्ण रुप से पालन करना है

इस पोस्ट में आपको पता चल गया होगा कि आपको नाइंथ क्लास में कौन सा सब्जेक्ट चुनना चाहिए और किस तरह की पढ़ाई करनी चाहिए हमारी हमेशा से यही इच्छा रहती है कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी के बाद कहीं और भटकना पड़े अगर आपको किसी भी तरह का सवाल है तो आप हमें कमेंट कर कर पूछ सकते हैं और हमारे ब्लॉक टेक्निकल असम हिंदी को फ्री में फॉलो बटन पर क्लिक कर कर फॉलो कर सकते हैं

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ